आदित्य L1: ISRO का सूर्य मिशन आज होगा लॉन्च, 5 साल चलेगा रिसर्च

पुणे के प्रमुख ‘इंटर-यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स’ (आईयूसीएए) के दो वैज्ञानिकों ने शुक्रवार को घोषित किया कि वे उनके मुख्य प्राप्तियों की बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहे हैं, जिन्हें दो सितंबर को ‘आदित्य L1’ मिशन के साथ प्रक्षिप्त किया जाएगा। सूर्य मिशन से संबंधित उपग्रह को शनिवार को पूर्वाह्न 11.50 बजे श्रीहरिकोटा के अंतरिक्ष केंद्र के दूसरे लॉन्च पैड से प्रक्षिप्त किया जाएगा। ‘आदित्य एल1’ का उद्देश्य सौर हवा की वास्तविक अवलोकन के लिए दूरस्थ एल1 (सूर्य-पृथ्वी लैग्रेंजियन बिंदु) पर सूर्य परिमंडल का अध्ययन करना है।

आदित्य एल1 लेकर जाएगा सात प्रमुख उपकरण, जिनमें से चार सूर्य के प्रकाश की निगरानी करेंगे। ‘आदित्य-एल1’ मिशन के मुख्य उपकरण में से एक, सोलर अल्ट्रावॉयलेट इमेजिंग टेलीस्कोप (एसयूआईटी) को विकसित करने के लिए पिछले 10 वर्षों से समर्पित वैज्ञानिक दुर्गेश त्रिपाठी और ए.एन. रामप्रकाश ने कहा, ‘हम इसके लिए उत्सुक हैं।’ त्रिपाठी ने कहा, ‘इसका शुरुआती काम 2013 में शुरू हुआ जब इसरो ने सूर्य का अध्ययन करने के लिए अपने मिशन की घोषणा की। फिर मैंने अपने सहयोगी ए.एन. रामप्रकाश से बात की, जो आईयूसीएए में भी प्रोफेसर हैं। हमने परियोजना को आरंभ किया और विभिन्न संस्थानों के कई सहयोगियों का साथ लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *